Essay on Abdul Kalam In Hindi ( अब्दुल कलाम पर निबंध हिंदी )

 नमस्कार भाइयो और बहेनो आज हम आपके साथ शेयर करेंगे Essay on abdul kalam in hindi


अब्दुल कलाम जीवनी - अब्दुल कलाम पर निबंध

एपीजे अब्दुल कलम जी का जनम मध्यमवर्ग मुस्लिम परिवार में 15 अक्टूबर 1931 को हुआ था  जो की  मिसाइल मैन के नाम से भी  भी जाने जाते हैं| अब्दुल कलाम जी भारत के ग्यारवे राष्ट्रपति  रहे है कलाम जी बोहोत महान इंसान थे वो अक्सर कहा करते थे की जब आप सपने को पूरा करने की ठान लोगे  तो उन्हें पूरा करके ही रहोगे इनके पिता जी का नाम जैनुलाब्दीन था और माता जी का नाम आशिअम्मा जैनुलआबिद्दीन  था 


कलाम जी के पिता जी मछुआरों को नाव किराये पर देते थे और इनके घर में तीन परिवार रहा करते थे | यह  भाई एवं पाँच बहन थे | इनके पिता जी ने अब्दुल कलाम जी को बोहोत अच्छे संस्कार दिए थे जो काम भी बोहोत आये थे इनके  शिक्षक इयादुराई सोलोमन ने  कहा था कि जीवन मे सफलता  प्राप्त करने के लिए तीव्र इच्छा, आस्था, अपेक्षा इन तीन शक्तियो को भलीभाँति समझ लेना और उन पर प्रभुत्व स्थापित करना चाहिए।



Essay on Abdul Kalam In Hindi
'                                                       essay on abdul kalam in hindi


अपनी शिक्षा जारी रखने के लिए अख़बार वितरित करने का भी कार्य  किया था।उन्होंने 1950 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। कलाम सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों के समर्थन के साथ 2002 में भारत के राष्ट्रपति चुने गए | अब्दुल कलाम जी को  भारत रत्न, से सम्मानित किया जा चुका है और इन्होने कई प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किये 

 

वैज्ञानिक जीवन


अब्दुल कलाम जी  भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन से १९७२ से जुड़े थे पृथ्वी की कक्षा के निकट  रोहिणी उपग्रह को स्थापित किया था।  कलाम जी 1992 से दिसम्बर 1999 तक रक्षा मंत्री के विज्ञान सलाहकार तथा सुरक्षा शोध और विकास विभाग के सचिव थे।

कलाम जी ने अपना ध्यान "गाइडेड मिसाइल" के विकास पर केन्द्रित किया।भारत ने 1998 में उनकी देखरेख में पोखरण में अपना दूसरा सफल परमाणु परीक्षण किया और परमाणु शक्ति से संपन्न राष्ट्रों की सूची में शामिल हुआ

18 जुलाई 2002 को कलाम को नब्बे प्रतिशत बहुमत द्वारा भारत का राष्ट्रपति चुना गया था 5 जुलाई 2002 को इन्होने  राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई ली थी | अब्दुल कलाम  बोहोत अनुशासनप्रिय थे और  यह शाकाहारी थे

कलाम जी की सबसे ज्यादा  लोकप्रियता युवा और बच्चों में थी।वे हमेशा ही देश के भले के बारे में सोचते रहे

2011 में  इनके ऊपर एक फिल्म बनी थी जिसका नाम आई एम कलाम था जिसमे एक गरीब बच्चे पर कलाम के सकारात्मक प्रभाव को चित्रित किया गया।  उनके सम्मान में वह बच्चा छोटू जो एक राजस्थानी लड़का है खुद का नाम बदल कर कलाम रख लेता है 

सैन्य मिसाइल के विकास के प्रयासों में भी  कलाम जी शामिल रहे। इन्हें बैलेस्टिक मिसाइल और प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी के विकास के कार्यों के लिए भारत में 'मिसाइल मैन' के रूप में जाना जाता है | 

कलाम ने अपने विचारों को चार पुस्तकों में समाहित किया है, जो इस प्रकार हैं: 'इण्डिया 2020 ए विज़न फ़ॉर द न्यू मिलेनियम', 'माई जर्नी' तथा 'इग्नाटिड माइंड्स- अनलीशिंग द पॉवर विदिन इंडिया' और इन पुस्तकों का कई भारतीय तथा विदेशी भाषाओं में अनुवाद हो चुका है


Faq of  Essay on abdul kalam in hindi

अब्दुल कलम जी का जनम कब हुआ था 

15 अक्टूबर 1931 को हुआ था 


अब्दुल कलम जी का किस नाम से जाने जाते है 

मिसाइल मैन 


कलाम जी का निधन


अब्दुल कलाम 2015 की शाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में 'रहने योग्य ग्रह' पर एक व्याख्यान दे रहे थे  तब उनको कार्डियक अरेस्ट हुआ था जिसकी वजह से ये बेहोश होकर जमीन पर गिर गए थे इनको अस्पताल में आईसीयू में ले जाया गया और दो घंटे के बाद इनकी मृत्यु की पुष्टि कर दी गई।

तिरंगे में लिपटे कलाम के पार्थि‍व शरीर को  सम्मान के साथ, उनके आवास 1पर ले जाया गया। [यहाँ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित अनेक गणमान्य लोगों ने कल जी को  श्रद्धांजलि दी।


Wrapping Up

हमे उम्मीद है आपको हमारा आर्टिकल Essay on Abdul kalam In Hindi पसंद आया होगा। 


Also Read






Post a Comment

0 Comments