Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi - गाँधी जी पर निबंध ( Kahani)

 नमस्कार दोस्तों कैसे हो आज हम आपके साथ गाँधी जी पर निबंध शेयर करने वाले है Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi. 

महात्मा गाँधी जी बोहोत महान इंसान थे। उन्होंने आजादी में एहम भूमिका निभाई थी।  हमारा आज का आर्टिकल उन्ही के ऊपर बनाया गया है बिना किसी देरी के आर्टिकल की सुरुवात करते और अंत तक जरूर पढ़े 


mahatma gandhi ji ka janam kab hua tha


Gandhi ji essay in hindi - महात्मा गाँधी जी का जन्म २ अक्टूबर 1869 को गुजरात में हुआ था। उनका पूरा नाम मोहन दस करम चंद्र गाँधी है । ,गाँधी जी हमेशा सादा जीवन जीना पसंद करते थ।  उनकी फोटो आप सबको ज्यादातर धोती में ही दिखेगी। 

उनके पिता जी का नाम करम चंद्र और माता जी का नाम पुतली बाई था। 1883 में गाँधी जी ने 13 साल की उम्र में कस्तूरबा जी से शादी की थी | 

गाँधी जी 1888 में वकालत की पढाई के लिए इंग्लैंड चले गए थे और १८९१ में अपनी पढाई  को ख़तम करने के बाद भारत लोटे थे 

गाँधी जी का बचपन में नाम मोनिया था महात्मा गाँधी जी के ३ भाई थे और गाँधी जी सबसे छोटे थे उनकी एक बड़ी बहन थी।  गाँधी जी को दुनीआ बापू के नाम से भी जानती है 




Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi

                                                                 
                                             Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi



Gandhi ji ke 3 Bandar


महात्मा गाँधी जी के ३ बन्दर थे इनमे एक बन्दर ने अपनी आँखों को बंद कर रखा होता है |जिसका मतलब है बुरा मत देखो,

 दूसरे बन्दर ने अपने कान बंद कर रखे होते है अपने दोनों हाथो से जिसका मतलब है बुरा मत सुनो और तीसरे बन्दर ने अपने हाथो से  मुंह बंद कर रखा होता है जिसका मतलब होता है बुरा नहीं कहना 


Gandhi ji ke andolan - Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi


पहले भारत अंग्रेज़ो का गुलाम था और भारत को आजाद कराने में गाँधी जी का बोहोत बारे योगदान रहा है उन्होंने अपना सारा जीवन भारत को आजाद कराने में लगा दिया था|

 ऐसे में उन्होंने कई आंदोलन किये है गाँधी जी हिंसा पर विश्वास नहीं करते थे कहने का मतलब है बिना किसी लड़ाई झगड़े के कोई भी काम को पूरा करना और किये गए आंदोलन कुछ इस प्रकार है 


भारत छोड़ो आंदोलन 1942 - Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi

भारत छोरो आंदोलन की सुरुवात  8 अगस्त 1942 को हुई थी, क्युकी गाँधी जी भारत को आजाद करना चाहते थे इसलिए ये नारा दिया गया था।  बापू ने इस आंदोलन की सुरुवात की थी और ये आंदोलन आजादी के लिए चलाया गया था इस आंदोलन में 940 लोग मारे गए थे और 1630 लोग घायल हुए थे 



Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi

                                               Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi

Dandi march andolan kab hua tha

दांडी मार्च की सुरुवात भी गाँधी जी के द्वारा ही की गयी थी मार्च में इसका आंदोलन को सुरु करने का बोहोत बड़ा कारन था क्युकी गाँधी जी अंग्रेज़ो के बनाये गए नमक के कानून को तोड़ना चाहते थे ये पैदल यात्रा थी 


Satyagraha andolan in hindi 

सत्याग्रह आंदोलन की सुरुवात भी गाँधी जी के द्वारा ही की गयी थी जिसका मतलब है अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना और सच का साथ देना। और हिंसा के खिलाफ होना 


असहयोग आंदोलन


इस आंदोलन की सुरुवात गाँधी जी ने एक अगस्त 1920 को की थी और ये आंदोलन अंग्रेज़ो के अत्याचार के खिलाफ लड़ने के लिए किआ गया था और ये आंदोलन अंग्रेज़ो के द्वारा बनाये गए कानून के विरोध में था।

 इस आंदोलन के दौरान हरताल भी ही थी विद्यार्थियों ने  स्कूलों और कॉलेजों में जाना बंद कर दिया था। वकीलों ने अदालत में जाने से मना कर दिया था। इस आंदोलन का मकशद अंग्रेज़ो के खिलाफ लड़ने के लिए अहिंसक से पेश आना था 


Desh azad kab hua tha 


15 अगस्त 1947 को भारत देश आजाद हुआ था और इसमें गाँधी जी का बोहोत बड़ा योगदान रहा है।  भारत लम्बे समय तक अंग्रेज़ो का गुलाम रहा था।  15 अगस्त 1947 के बाद से हर 15 अगस्त को इंडिपेंडेंस डे बनाया जाता है और झंडा फेराया जाता है |

Gandhi ji ki mrityu kab hui thi


गाँधी की तो मृत्यु ३० जनवरी 1948 को हुई थी गाँधी जी प्रार्थना करने जा रहे थे शाम के वक़्त तभी नाथूराम गोडसे ने  अपनी पिस्तौल से पैर छुने के बहाने उन पर गोलियाँ चला दी थी गाँधी हमारे बीच नहीं रहे पर ये महान इंसान हमशा अमर रहेगा 

Wrapping up


हमे उम्मीद है आपको हमारा आर्टिकल बोहोत पसंद आया होगा Short Essay on Mahatma Gandhi in hindi। इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ शेयर करे धन्यवाद्     




Also Read 







Post a Comment

0 Comments